join party
Donate
supporter
volunteer
share
हलोपा छोड़ कईयो ने थामा स.भा.पा. का दामन

जातिवाद व क्षेत्रवाद की राजनीति करने वाले जनता का हित नहीं सोच सकते :- नीलम अग्रवाल
 
भिवानी:- प्रेदश में सरकार बनाने वाले राजनीतिक दलों ने कुर्सी पाने के लिए हमेशा जनता को बरगलाकर अपना स्वार्थ सिद्ध करने का काम किया है और जनता से जुडे मुद्दो को दरकिनार कर केवल नीजि हित साधन पर ही ध्‍यान दिया है। जातिवाद की राजनीति करने वाले ऐसे दल या नेता जनता  का हित नहीं सोच सकते, क्योंकि उनकी संकीर्ण मानसिकता उन्हें ऐसा करने नही देती। 

ऐसे दलों और नेताओं के विकल्‍प के रूप में आज समस्त भारतीय पार्टी का उदय हुआ है, जो सिर्फ एक दल नहीं, एक विचार धारा है और आज के भ्रष्टाचारी नेताओ से सिद्धांतों की लड़ाई लड़ रही हैं। स.भा.पा. का मानना है कि अगर चुने हुए नुमाईंदे अपना काम ईमानदारी से करते तो आज ये गंभीर हालात पैदा ना होते और जनता को समस्याओं से जूझना ना पड़ता। आज नेता केवल बरगलाकर और विकास के बड़े-बड़े दावे कर वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं। जबकि हकीकत यह है कि जनता द्वारा चुने जाने के बाद इन नेताओ ने कभी भी ईमानदारी से काम ही नहीं किया। ये शब्द समस्त भारतीय पार्टी की प्रदेश अध्यक्ष एंव भिवानी विधानसभा प्रत्याशी श्रीमती नीलम अग्रवाल ने गाँव सांगा में एक सभा को संबोधित करते हुए कहे। 

श्रीमती अग्रवाल ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव महज प्रदेश में सत्‍ता परिवर्तन नहीं, भ्रष्टाचारियों और सैद्धांतिक लोगो के बीच लड़ाई है। वर्तमान सरकार और सत्ता का सुख भोग चुकी तमाम सरकारों के राजनेताओं की असलियत जनता भली-भाँति जान चुकी हैं। अब समय आ गया है ऐसे विश्वासघाती व स्वार्थी नेताओं को सबक सिखाने का। 
इससे पूर्व श्रीमती अग्रवाल ने युवाओं की एक सभा को सम्बोधित किया। जहां कई युवाओं ने हलोपा छोड़ समस्त भारतीय पार्टी का दामन थामा। श्रीमती अग्रवाल ने पटका पहनाकर सभापा में युवाओं का स्वागत किया और उन्हें विश्वास दिलाया कि युवा जो उम्‍मीद सभापा से रखते हैं, उन्हें हर हाल में पूरा किया जाएगा। इस अवसर पर नरेन्द्र चौहान (नन्दू), सुनील तंवर, नवीन कुमार, आशु शर्मा, दीपक पूनीया, मोहित यादव, रवि यादव, धनेश यादव, वरूण सिंगला, मुकेश, सोमबीर, जोगेन्द्र, श्रीभगवान, मामन गुज्जर, करण गुज्जर, धर्मपाल लाठर इत्यादि के अलावा पार्टी के वरिष्ट पदाधिकारी और सकैंडो की सख्यां में लोग उपस्थित थे।

Back