join party
Donate
supporter
volunteer
share
लोग परिवारों से राजनीति पाते है, मैंने राजनीति से परिवार



प्रदेश की जनता को कुशल मुख्यमंत्री देगी सभापा, सैकडो ने इनेलो छोड थामा सभापा का दामन।

प्रदेश की राजनीतिक पार्टियों के शीर्ष राजनेता जाट और गैर जाट मुख्यमंत्री की बात कर प्रदेश के लोगों में जातिवाद का जहर भरकर अपने निजी स्वार्थो की पूर्ति करते हैं। जनता का हित किसी भी राजनीतिक दल के राजनेता के लिए कोई मा यने नहीं रखता। कोई भी पार्टी ईमानदार व सिद्धंातवादी नेता की बात नहीं करती। परन्तु समस्त भारतीय पार्टी प्रदेश की जनता को ये विश्वास दिलाती है कि सभापा जाट या गैर जाट नहीं बल्कि लोगों को एक कुशल मुख्यमंत्री देगी, जो केवल प्रदेश के हितों के बारे में सोचे और जिसके लिए हर व्यक्ति, हर जाति, हर वर्ग व हर इलाका एक समान हो। ये शब्द समस्त भारतीय पार्टी की प्रदेश अध्यक्ष एवं भिवानी विधानसभा प्रत्याशी श्रीमती नीलम अग्रवाल ने भिवानी शहर के दुर्गा कॉलोनी व डोभी तालाब पर नुक्कड़ सभाओं को सम्बोधित करते हुए क हे। श्रीमती अग्रवाल ने अनाज मण्डी में डोर टू डोर जनसम्पर्क अभियान चलाया और लोगो को कैंची के निशान पर वोट डालने की अपील की। इस के अलावा ग्रामीण दौरे के दौरान गाँव कितलाना, गौरीपुर व मधुमाधवी में भी नुक्कड़ सभाओं को सम्बोधित किया। श्रीमती अग्रवाल ने कहा कि लोग परिवारों से राजनीति पाते है लेकिन मैंने राजनीति से परिवार पाया है और क्षेत्र की जनता मेरा परिवार हैं। इस परिवार की खुशहाली के लिए मुझे कोई भी संघर्ष करना पड़ा तो मैं पीछे नहीं हटूँगी। पार्टी प्रदेश की जनता को ये साबित कर देगी कि सभापा की नीति और नीयत में कोई फर्क नही है और केवल जनसेवा के उद्देश्य को लेकर हम राजनीति में आऐ हैं। श्रीमती अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा पूरे प्रदेश में विकास होने की बात कहते है लेकिन शायद प्रदेश का मुखिया सच्चाई से कोसों दूर है। पिछले 10 वर्षो में प्रदेश पर 57 हजार करोड़ का कर्ज चढ़ाने वाले नेता किस विकास की बात कहते हैं? पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला 23 हजार करोड़ का कर्ज प्रदेश की जनता पर छोड़कर गए और आज इस वित्त वर्ष के बाद कांगे्रस सरकार ने इसे 80 हजार करोड़ कर दिया। उन्होंने कहा कि सत्ता में बैठी कांगे्रस और सत्ता का सुख भोग चुके तमाम राजनीति दलों व उनके राजनेताओं ने कभी भी जनता का नहीं बल्कि अपना विकास किया है। जनप्रतिनिधियों ने गरीब आदमी के लिए नहीं बल्कि अपने लोगों की तरक्की के लिए योजनाएं बनाई है और अपने स्वार्थो की पूर्ति की है। राजनीति का गढ़ कहे जाने वाले भिवानी क्षेत्र से सरकार के इतने मंत्री होने के बावजूद क्षेत्र की दुर्दशा के लिए सभापा प्रदेशध्यक्ष ने सीधे तौर पर जनप्रतिनिधियों की कमजोर इच्छाशक्ति को जिम्मेदार बताया। दौरे के दौरान सैकडो लोगो ने इनेलो छोड सभापा का दामन थामा और श्रीमती अग्रवाल को विजयी बनाने का सकंल्प लिया। इस अवसर पर कालिया, श्यामा, प्रिंस वालिया, महेन्द्र, पूर्व सरपंच गुलजारी लाल, भरत सिंह, मोजी राम, सूरत, बृजमोहन कोशिक, विजय, दिपक, अमित भारद्वाज, जयभगवान एडवोकेट, कालिया, कटार, रामबीर, अशोक कितलाना, जीवन शर्मा, जयसिंह, पुष्कर शर्मा, संजू, कर्मवीर, राकेश इत्यादि के अलावा सैकंड़ो की संख्या में लोग उपस्थित थे।

Back